बागेश्वर के जैनकरास गांव में पहली बार पहुंचा रसोई गैस का वाहन, लोगों में ख़ुशी का माहौल


Bageshwar News: बृहस्पतिवार को बागेश्वर जिले के दूरस्थ इलाका जैनकरास में पहली बार रसोई गैस का वाहन पहुंचा तो लोगों के चेहरे खिल उठे। इस गांव में रसोई गैस भरवाना बड़ा सर दर्द का काम होता होता था। अब तक लोगों को 10 किमी दूर काफलीगैर से घोड़ों के जरिए रसोई गैस सिलिंडर का ढुलान करना पड़ता था।

जैनकरास के लोगों को काफलीगैर से गांव तक रसोई गैस का ढुलान कराने में करीब 500 रुपये का अतिरिक्त खर्च वहन करना पड़ता था। और गैस का एक सिलेण्डर भरवाने में उनका पूरा दिन का हर्जा भी हो जाता था। हाल में गांव में सड़क पहुंची लेकिन रसोई गैस की होम डिलीवरी फिर भी नहीं हो रही थी।

यह भी पढ़िये : बड़ी खबर: मोदी सरकार का फैसला 2 हफ्तों के लिए बढ़ाया Lock-down , 4 मई से 17 मई तक रहेगा जारी

लोगों की समस्या को देखते हुए ग्राम प्रधान अंजनी जोशी, नवीन जोशी तथा गांव के सभी सम्मानित ब्यक्तित्यो ने ताकुला एजेंसी के प्रबंधक रमेश चंद्र पंत के सामने रसोई गैस का वाहन गांव तक भिजवाने का मामला रखा जिसे उन्होंने स्वीकार कर उक्त गांव में गैस का वहां भिजवाया।

यह भी पढ़िये : जागेश्वर (अल्मोड़ा) से घर लौट रहा था ग्रामीण, घात लगाये तेंदुए ने किया हमला, मौके पर मौत

बृहस्पतिवार को इंडेन गैस सर्विस ताकुला से गैस का वाहन गांव में पहुंचा। लोगों को घर के पास गैस सिलिंडर मिले। इसके लिए गांव के लोगों ने ग्राम प्रधान और गैस प्रबंधक का आभार जताया। लोगों ने नियमित रूप से क्षेत्र में गैस आपूर्ति करवाने की मांग की है। ताकि समय के साथ ही धन की बचत हो सके।

यह भी पढ़िये : गरुड़ / बागेश्वर लॉकडाउन: हाेटल, रेस्टोरेंट बंद हाेने से करीब दाे हजार युवा हुए बेरोजगार, रोजी - रोटी का संकट