मुंबई में फंसे बागेश्वर के 22 युवक, घर वापसी की लगा रहे गुहार


मुंबई / बागेश्वर : मुंबई के होटलों में काम करने वाले कपकोट विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों के 22 युवाओं की कोरोना संक्रमण के कारण नौकरी चली गई। अमर उजाला के तरफ से यह खबर सामने आ रही है। अब इन युवाओं के सामने खाने के लाले पड़े हुए हैं। यह युवा क्षेत्रीय विधायक बलवंत सिंह भौर्याल और राज्य सरकार से घर वापसी के इंतजाम करने की गुहार लगा रहे हैं।

रविवार को मुंबई से सानिउडियार निवासी सूरज आर्या ने फोन पर अमर उजाला संवाददाता से संपर्क साधा। उन्होंने बताया कि बनीगांव, कांडा के वजीला, ठांगा (कमस्यार), सनिउडियार के 22 लोग मुंबई में फंसे हुए हैं। वह लोग मुबंई के विभिन्न होटलों में काम करते थे।

यह भी पढ़िये : बागेश्वर / उत्तराखंड में कुदरत की मार ने तोडी़ किसानों की कमर, मूसलाधार बारिश में गेहूँ समेत कईं फ़सलें नष्ट, मुआवजे की मांग

कोरोना संक्रमण के चलते लागू लॉकडाउन के कारण होटल मालिकों ने उन लोगों को घर जाने के लिए कह दिया। किसी को मालिकों ने पगार दी, किसी को बगैर पगार के भेज दिया। बताया कि राजेंद्र राम, साधू आर्या, मनोज कुमार, अजय कुमार, अंकित कुमार, महेश कुमार, कमल कुमार, इंदर कुमार, सुभाष आर्या, अनिल टम्टा, सुनील टम्टा, पूरन टम्टा, साहिल टम्टा चारपोकगांव कांदिवली में रह रहे हैं।

यह भी पढ़िये : उत्तराखण्ड के 9 जिलों में ये दुकानें खुली, शराब को लेकर हुआ ये बड़ा फैसला